गाय से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी ।

गाय से जुड़ी कुछ रोचक जानकारी ।

1. गौ माता जिस जगह खड़ी रहकर आनंदपूर्वक चैन की सांस लेती है । वहां वास्तु दोष समाप्त हो जाते हैं ।

2. गौ माता में तैंतीस कोटी देवी देवताओं का वास है ।

3. जिस जगह गौ माता खुशी से रभांने लगे उस देवी देवता पुष्प वर्षा करते हैं ।

4. गौ माता के गले में घंटी जरूर बांधे ; गाय के गले में बंधी घंटी बजने से गौ आरती होती है ।

5. जो व्यक्ति गौ माता की सेवा पूजा करता है उस पर आने वाली सभी प्रकार की विपदाओं को गौ माता हर लेती है ।

6. गौ माता के खुर्र में नागदेवता का वास होता है । जहां गौ माता विचरण करती है उस जगह सांप बिच्छू नहीं आते ।

7. गौ माता के गोबर में लक्ष्मी जी का वास होता है ।

8. गौ माता के मुत्र में गंगाजी का वास होता है ।

9. गौ माता के गोबर से बने उपलों का रोजाना घर दूकान मंदिर परिसरों पर धुप करने से वातावरण शुद्ध होता है सकारात्मक ऊर्जा मिलती है।

10. गौ माता के एक आंख में सुर्य व दूसरी आंख में चन्द्र देव का वास होता है ।

11. गाय इस धरती पर साक्षात देवता है ।

12. गौ माता अन्नपूर्णा देवी है कामधेनु है । मनोकामना पूर्ण करने वाली है ।

13. गौ माता के दुध मे सुवर्ण तत्व पाया जाता है जो रोगों की क्षमता को कम करता है।

14. गौ माता की पूंछ में हनुमानजी का वास होता है । किसी व्यक्ति को बुरी नजर हो जाये तो गौ माता की पूंछ से झाड़ा लगाने से नजर उतर जाती है ।

15. गौ माता की पीठ पर एक उभरा हुआ कुबड़ होता है । उस कुबड़ में सूर्य केतु नाड़ी होती है । रोजाना सुबह आधा घंटा गौ माता की कुबड़ में हाथ फेरने से रोगों का नाश होता है ।

16. गौ माता का दूध अमृत है।

17. गौ माता धर्म की धुरी है। गौ माता के बिना धर्म कि कल्पना नहीं की जा सकती ।

18. गौ माता जगत जननी है।


19. गौ माता पृथ्वी का रूप है।

20. गौ माता सर्वो देवमयी सर्वोवेदमयी है । गौ माता के बिना देवों वेदों की पूजा अधुरी है ।

21. एक गौ माता को चारा खिलाने से तैंतीस कोटी देवी देवताओं को भोग लग जाता है ।

22. गौ माता से ही मनुष्यों के गौत्र की स्थापना हुई है ।

23. गौ माता चौदह रत्नों में एक रत्न है ।

24. गौ माता साक्षात् मां भवानी का रूप है ।

25. गौ माता के पंचगव्य के बिना पूजा पाठ हवन सफल नहीं होते हैं ।

26. गौ माता के दूध घी मख्खन दही गोबर गोमुत्र से बने पंचगव्य हजारों रोगों की दवा है । इसके सेवन से असाध्य रोग मिट जाते हैं ।

27. गौ माता को घर पर रखकर सेवा करने वाला सुखी आध्यात्मिक जीवन जीता है । उनकी अकाल मृत्यु नहीं होती ।

28. तन मन धन से जो मनुष्य गौ सेवा करता है । वो वैतरणी गौ माता की पुछ पकड कर पार करता है। उन्हें गौ लोकधाम में वास मिलता है ।

28. गौ माता के गोबर से ईंधन तैयार होता है ।

29. गौ माता सभी देवी देवताओं मनुष्यों की आराध्य है; इष्ट देव है ।

30. साकेत स्वर्ग इन्द्र लोक से भी उच्चा गौ लोक धाम है।


31. गौ माता के बिना संसार की रचना अधुरी है ।

32. गौ माता में दिव्य शक्तियां होने से संसार का संतुलन बना रहता है ।

33. गाय माता के गौवंशो से भूमि को जोत कर की गई खेती सर्वश्रेष्ट खेती होती है ।

34. गौ माता जीवन भर दुध पिलाने वाली माता है । गौ माता को जननी से भी उच्चा दर्जा दिया गया है ।

35. जहां गौ माता निवास करती है वह स्थान तीर्थ धाम बन जाता है ।

36. गौ माता कि सेवा परिक्रमा करने से सभी तीर्थो के पुण्यों का लाभ मिलता है ।

37. जिस व्यक्ति के भाग्य की रेखा सोई हुई हो तो वो व्यक्ति अपनी हथेली में गुड़ को रखकर गौ माता को जीभ से चटाये गौ माता की जीभ हथेली पर रखे गुड़ को चाटने से व्यक्ति की सोई हुई भाग्य रेखा खुल जाती है ।

38. गौ माता के चारो चरणों के बीच से निकल कर परिक्रमा करने से इंसान भय मुक्त हो जाता है ।

39. गाय माता आनंदपूर्वक सासें लेती है; छोडती है । वहां से नकारात्मक ऊर्जा भाग जाती है और सकारात्मक ऊर्जा की प्राप्ति होती है जिससे वातावरण शुद्ध होता है ।

40. गौ माता के गर्भ से ही महान विद्वान धर्म रक्षक गौ कर्ण जी महाराज पैदा हुए थे ।

41. गौ माता की सेवा के लिए ही इस धरा पर देवी देवताओं ने अवतार लिये हैं ।

42. जब गौ माता बछड़े को जन्म देती तब पहला दूध बांझ स्त्री को पिलाने से उनका बांझपन मिट जाता है ।

43. स्वस्थ गौ माता का गौ मूत्र को रोजाना दो तोला सात पट कपड़े में छानकर सेवन करने से सारे रोग मिट जाते हैं ।

44. गौ माता वात्सल्य भरी निगाहों से जिसे भी देखती है उनके ऊपर गौकृपा हो जाती है ।

45. गाय इस संसार का प्राण है ।

46. काली गाय की पूजा करने से नौ ग्रह शांत रहते हैं । जो ध्यानपूर्वक धर्म के साथ गौ पूजन करता है उनको शत्रु दोषों से छुटकारा मिलता है ।

47. गाय धार्मिक ; आर्थिक ; सांस्कृतिक व अध्यात्मिक दृष्टि से सर्वगुण संपन्न है ।

48. गाय एक चलता फिरता मंदिर है । हमारे सनातन धर्म में तैंतीस कोटि देवी देवता है । हम रोजाना तैंतीस कोटि देवी देवताओं के मंदिर जा कर उनके दर्शन नहीं कर सकते पर गौ माता के दर्शन से सभी देवी देवताओं के दर्शन हो जाते हैं ।

49. कोई भी शुभ कार्य अटका हुआ हो बार बार प्रयत्न करने पर भी सफल नहीं हो रहा हो तो गौ माता के कान में कहिये रूका हुआ काम बन जायेगा ।

50. जो व्यक्ति मोक्ष गौ लोक धाम चाहता हो उसे गौ व्रती बनना चाहिए ।

51. गौ माता सर्व सुखों की दातार है ।

हे मां आप अनंत ! आपके गुण अनंत ! इतना मुझमें सामर्थ्य नहीं कि मैं आपके गुणों का बखान कर सकूं ।

Desh Bhakti Shayari i

soldiers par Desh Bhakti Shayari in Hindi
दुश्मनों के तोप के आगे जो सीना तानकर अड़ गया
सोचो वो वीर कैसा होगा, जो तोप पर भारी पड़ गया
ऐसे कई वीरों ने दुश्मनों को धूल चटाई है
तब जाकर देश की आजादी अखण्ड रह पाई है.Desh Bhakti Shayari in Hindi for Shahid
वीरगति पाना, वरदान पाने से कम नहीं होता
क्योंकि लोग तो रोज लाखों मरते हैं……..
लेकिन तिरंगा हर किसी का कफन नहीं होता.Subhash par Desh Bhakti Shayari in Hindi
जब सुभाष ने आजाद हिन्द से धावा बोला,
तब अंग्रेज थर्राए थेआजादी अब देनी ही होगी,
यह संदेश उन्होंने लंदन तक पहुँचाए थे
लाखों लोगों के लहू बहे, तब आजादी के दिन आए थेDesh Bhakti Shayari in Hindi on desh bhakti
आपकी प्राथमिकता में सबसे पहले देश होना चाहिये
राष्ट्र से बड़ा नहीं होता कुछ, यह संदेश होना चाहिये
हर किसी को देश से प्रेम हो, ऐसा घर-घर का परिवेश होना चाहिये.Desh Bhakti Shayari in Hindi on desh prem
जब देश प्रेम का नशा चढ़ता है, तभी तो खुदगर्जी का नशा उतरता है
और तभी तो कोई विक्रम बत्रा, तो कोई मनोज पाण्डेय बन देश की खातिर मरता है.
( विक्रम बत्रा, और मनोज पाण्डेय कारगिल की युद्ध में शहीद हुए थे )Desh Bhakti Shayari in Hindi on matribhumiदेश प्रेम से बड़ा कोई संकल्प नहीं होताऔर देश के बारे में जितनी भी गलतफहमियां पाल लो तुमपर याद रखो मातृभूमि का कोई विकल्प नहीं होता.Desh Bhakti Shayari in Hindi on gulami
जाति, क्षेत्र, भाषा में हम बँटे रहे इसलिए 700 वर्षों तक गुलामी के दंश सहे
हम फिर वही गलती दोहरा रहे हैं, जाति, क्षेत्र, भाषा में बँटे जा रहे हैं
जो हम मुगलों और अंग्रेजों की सोच वाले लोगों को एेसे ही सिर पर चढ़ाएंगे
आने वाली पीढ़ियों को फिर गुलामी का अभिशाप दे जाएंगेजब-जब कोई कलम बिका कई पीढ़ियों को गुमराह कर गया
शाहजहाँ को सर्वश्रेष्ठ प्रेमी बताया और अकबर को महान कर गया
क्रांतिकारियों के योगदान को किनारे करके,
अाजादी का सारा श्रेय गाँधीवादियों के नाम कर गयादुश्मन की हर बात का जवाब होते हैं सैनिक
वीरता की खुली किताब होते हैं सैनिक
देशभक्ति की मिसाल होते हैं सैनिक
देशवासियों की ढाल होते हैं सैनिक

न जाने कितनों ने आजादी के यज्ञ में अपनी आहुति चढ़ाई
तब जाकर आजादी की सुनहरी सुबह आई
न जाने कितनों ने जौहर किए, न जाने कितनों ने वीरगति पाईदेश को आजादी के नए अफसानों की जरूरत है
भगत-आजाद जैसे आजादी के दीवानों की जरूरत है
भारत को फिर देशभक्त परवानों की जरूरत है………………….जिन्हें है प्यार वतन से, वो देश के लिए अपना लहू बहाते हैं
माँ की चरणों में अपना शीश चढ़ाकर, देश की आजादी बचाते हैं
देश के लिए हँसते-हँसते अपनी जान लुटाते हैं…………………………अनगिनत क्रांतिकारियों ने लहू देकर दिलाई है स्वतन्त्रता
वीर सैनिकों ने लहू देकर बचाई है स्वतन्त्रता……
चार दिनों में मिली नहीं है यह, सदियों की कमाई है स्वतन्त्रता…….
कुर्बानियों पर कुर्बानियाँ दी, तब जाकर हमने पाई है स्वतन्त्रता………बात जब भी देश के सुरक्षा की आएगी
हम दुश्मनों के संहार के लिए तैयार रहेंगे
छोटी-बड़ी सभी कुर्बानियों के लिए तैयार रहेंगे.

 

Desh Bhakti Shayari in Hindiअकबर तो था आक्रमणकारी, उसे महान मत बतलाओ
वीर प्रताप के गुण गाओ………
महाराणा के स्वाभिमान को मत भूल जाओ
अकबर को महान बताना मक्कारी है, गद्दारी है………..
अपना प्रताप लाखों अकबरों पर अकेले भारी है……………….जिसने शाहजहाँ और औरंगजेब को उनकी नानी याद दिलाई थी
वो मराठा वीर शिवाजी थे, जिसने मुगलों की चूलें हिलाई थी
उस भगवा ध्वज वाहक में गजब की रवानी थी…………………………………..
जिसने हर हिन्दुस्तानी के दिल में फिर, देशभक्ति की आग जलाई थी………………….अपने खून का एक-एक कतरा बहाया वतन के वास्ते
एक भी कतरा नहीं बचाया अपने वास्ते
दुनिया में तो लाखों रोज मरते हैं……
पर असल मरना तो वह है, जो मरते हैं वतन के वास्ते.

 

अपने खून से देश की सरहद को सींचते हैं हम
हर रोज मौत और तूफानों से खेलते हैं हम
दुश्मनों के मंसूबों पर पानी फेरते हैं हम
मेरा देश महफूज रहे इसलिए हर दर्द झेलते हैं हम.hindi desh bhakti shayariदुनिया में सबसे खूबसूरत है भारत
संस्कृति और विज्ञान का तराना है भारत
मानवता का अद्भुत खजाना है भारत.कौन बनेगा सरदार भगत सिंह
कौन बनेगा स्वाभिमानी प्रताप
Koun कौन बनेगा सरदार पटेल
कौन-कौन करेगा देश के दुश्मनों का विनाश.आज हम जहाँ लहू बहा रहे हैं, कल वहाँ  देशप्रेम के फसल लहलहाएंगे
हम सैनिक हैं, हमारा धर्म है देश के लिए लड़ना
Hum हम देशभक्ति की वीरगाथा गाते जायेंगे
हम देश के दुश्मनों को जड़ से मिटाते जायेंगे.

हम कभी न कभी यह प्रश्न पूछते हैं कि आखिर हमारे सैनिक कबतक मारे जायेंगे….. इस प्रश्न का उत्तर हैं ये दो पंक्तियाँ
जबतक गद्दारों के सिर न काटे जायेंगे

तबतक सीमा पर सैनिक मारे जायेंगे.

Desh Bhakti Shayaris by – Abhishek Mishra “Abhi”

जिंदगी जब तुझको समझा, मौत फिर क्या चीज है.
ऐ वतन तू हीं बता, तुझसे बड़ी क्या चीज है – संतोष आनंद.वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमां
हम अभी से क्या बताएँ, क्या हमारे दिल में है.शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा.अनेकता में एकता ही इस देश की शान है,
इसीलिए मेरा भारत महान है.खून से खेलेंगे होली,
अगर वतन मुश्किल में है
सरफ़रोशी की तमन्ना
अब हमारे दिल में है.चन्दन है इस देश की माटी,
तपोभूमि हर ग्राम है.
हर बाला देवी की प्रतिमा,
बच्चा-बच्चा राम है.जो अब तक ना खौला, वो खून नहीं पानी है,जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी हैऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा
ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा
पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए
कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये.लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,
मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा
मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,
मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा.अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं.आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे
शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे
बची हो जो एक बूंद भी लहू की
तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे.खींच दो अपने ख़ूँ से जमीं पर लकीर
इस तरफ आने पाये ना रावण कोई
तोड़ दो अगर कोई हाथ उठने लगे
छू ना पाये सीता का दामन कोई
राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियो
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो.तेरे दामन से जो आये, उन हवाओं को सलाम
चूम लूँ मैं उस जुबां को जिस पे आये तेरा नाम
सबसे सुन्दर सुबह तेरी
सबसे सुन्दर तेरी शाम
तुझ पे दिल कुरबान
ऐ मेरे प्यारे वतन,
ऐ मेरे पिछड़े चमन
तुझ पे दिल कुर्बान।।.कर चले हम फ़िदा जाने तन साथियोअब तुम्हारे हवाले वतन साथियो….अब तुम्हारे हवाले वतन साथियोकुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है.दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उल्फ़त,
मेरे मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी.नज़ारे नज़र से ये कहने लगे,नयन से बड़ी चीज कोई नहींतभी मेरे दिल ने ये आवाज दी, वतनसे बड़ी चीज कोई नहीं – संतोष आनंदहम हैं हिन्दुस्तानी
हम हैं हिन्दुस्तानी
हमने न कभी हार मानी
क्योंकि हम हैं हिन्दुस्तानी
आँधी आए या आए तूफान
खड़े रहे हैं सीना तान
सिर न झुकायेंगे, चाहे मिट जायेंगे
बनकर न रहे सिर्फ कहानी
समझ जाओ ये कहानी मेरी जुबानी
क्योंकि मैं हूँ हिन्दुस्तानी – Arya

इतिहास गा रहा है.

इतिहास गा रहा है दिन रात गुण हमारा
दुनिया के लोगों सुन लो यह देश है हमारा ||
इस पर जनम लिया है इसका पिया है पानी
माता यह है हमारी यह है पिता हमारा
दुनिया के लोगों सुन लो यह देश है हमारा ||
वह देवता हिमालय हमको पुकारता है
गुण गा रही है निश-दिन गंगा की शुभ पुण्य धारा
दुनिया के लोगों सुन लो यह देश है हमारा ||
पोरस की वीरता को झेलम तू ही बता दे
यूनान का सिकंदर था तेरे तट पे हारा
दुनिया के लोगों सुन लो यह देश है हमारा ||
उज्जैन फिर सुना दे विक्रम की वह कहानी
जिसमे प्रकट हुआ था संवत नया हमारा
दुनिया के लोगों सुन लो यह देश है हमारा ||
आता है याद हरदम गुप्तों का वह जमाना
सारे जहाँ पे छाया वह स्वर्ण-युग हमारा
दुनिया के लोगों सुन लो यह देश है हमारा ||
चित्तोड़ रायगढ़ और चमकौर फिर गरज उठे थे
सदियों लड़ा निरन्तर आज़ाद खूं हमारा
दुनिया के लोगों सुन लो यह देश है हमारा ||
दी क्रांतिकारियों ने अंग्रेज को चुनौती
पल-पल प्रकट हुआ था स्वातंत्र्य वह हमारा
दुनिया के लोगों सुन लो यह देश है हमारा ||
हम इनको भूल जाएँ संभव नहीं कभी यह
इनके लिए जियेंगे यह धर्म है हमारा
दुनिया के लोगों सुन लो यह देश है हमारा ||
होगा भविष्य उज्ज्वल संसार में अनोखा
बतला रहा है हमको यह संगठन हमारा

समर में घाव खाता है

समर में घाव खाता है उसी का मान होता है,
छिपा उस वेदना में अमर बलिदान होता है,
सृजन में चोट खाता है छेनी और हथौड़ी का,
वही पाषाण मंदिर में कहीं भगवान होता है।
सुनहरी शाम की राम-

आत्म-विश्वास सौ रोगो की एक दवा है।

आत्म-विश्वास सौ रोगो की एक दवा है। आत्म विश्वास है तो आपको काम के लिए नहीं भटकना पड़ेगा, भयंकर बीमारियॉँ नही पडेंगी, चिन्ताऍ आपका खून नहीं चूसेंगी ओर दुनिया की असफलताओं की वेदना आपको नही उठानी पड़ेगी। आत्म-विश्वास वह शक्ति है, जो असम्भव को भी सम्भव करके दिखा देती है।

आत्म-विश्वास दृढ़ इच्छा-शक्ति सेउत्पन्न होता है। इच्छा-शक्ति वैसे हरकिसी मे होती है; किन्तु बहुत से लोगों मे वह सोती पडी रहती है। वे जानते ही नही कि उनके अन्दर शक्ति है। जो उसे पहचान लेते है, उनमें यह विश्वस पैदा हो जाता है कि वे जो कुछ करेगें, अच्छा ही होगा। ऐसे आदमी हौसले से काम करते जाते है ओर सफलता हर घड़ी उनके दरवाजें पर खड़ी रहती है।

मेरा रंग दे बसंती चोला माये रंग दे

मेरा रंग दे.. 

मेरा रंग दे बसंती चोला माये रंग दे

मेरा रंग दे बसंती चोला माये रंग दे

मेरा रंग दे बसंती चोला रंग दे, रंग दे..

रंग दे बसंती चोला माये रंग दे

 

जिस चोले को पहन शिवाजी खेले अपनी जान पे

जिसे पहन झांसी की रानी मिट गई अपनी आन पे

आज उसी को पहन के निकला पहन के निकला

आज उसी को पहन के निकला हम मस्तों का टोला

मेरा रंग दे बसंती चोला

ओ मेरा रंग दे बसंती चोला मेरा रंग दे

ओ मेरा रंग दे बसंती चोला ओय रंग दे

 

बसंती चोला माई रंग दे बसंती चोला 

 

जब शहीदो की अर्थी उठी झूम के 

देश वासी तुम आसु बहाना नहीं 

पर मनाओ जब आजाद भारत का दिन

उस दिन हमे भूल जाना नहीं 

लौट कर आ सके न जहाँ मे तो क्या

याद बन के तो दिल मे आ जाएंगे

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी कसम 

तेरी रह मे जान तक लूटा जायेंगे  

 

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी कसम 

तेरी रहो मे जान तक लूटा जाएंगे

फूल क्या…

ऐ वतन ऐ वतन हमको तेरी कसम ….

तेरी रह मे जान तक लूटा जायेंगे  

 

इंक़लाब..इंक़लाब…इंक़लाब..इंक़लाब..इंक़लाब..इंक़लाब

इंक़लाब..इंक़लाब…इंक़लाब..इंक़लाब..इंक़लाब..इंक़लाब